Friday, March 13, 2015

आओ कुछ लिखकर देखा जाए

आओ कुछ लिखकर देखा जाए
शब्दों को कुछ पल जी कर देखा जाए
आड़ी तिरछी रेखाओं की ज़ुबानी
ये ज़िन्दगी कहती है अपनी कहानी
श्वेत श्याम रंगों में लिपटा
शब्दों का ये जीवन
देता है कितने विचारों को यौवन
आओ ............................कुछ लिखकर देखा जाए
शब्दों को कुछ पल जी कर देखा जाए 

10 comments:

Tanupreet Kaur said...

Nyc lines on 'words'

akanksha gupta said...

Aao kuch likhkar dekha jaye....beautiful lines

Shainda Warsi said...

ISE KAHTE HAI KAVI KI KAVITA KISI NE SACH HI KAHA HAI
"JAHA NA PAHUCHE RAVI
WAHA PAHUCHE KAVI."

arvind singh Yadav said...

Kyaa baat hi sir kuch lines me bahut kuch keh gye....

Fatima Lubna said...

Words are the most powerful tool to change the world.

NITYANAND GUPTA said...

शब्दों की नई कहानी
अपनी ज़िंदगानी
आओ लिखे एक नई कहानी
शब्दों की ज़ुबानी
आओ कुछ लिखकर देखा जाए
सपनो को शब्दों में बदला जाए
शब्दों को कुछ पल जी कर देखा जाए
आओ कुछ लिखकर देखा जाए....

ANITA RAJ said...

wah sir ji aapne in chand lines mein jindgi ka falsafa hi likh diya.

Navneet verma said...

KAVITA SAARGARBHIT HAI, KUM SABDON ME SABDON KI GEHRAAI KO SAMJHANE KA ANUTHA EVAM SAFAL PRAYAAS KIYA GAYA HAI, PRASTUT PANKTIYOON K LIYE "GAAGAR ME SAAGAR BHARNA" MUHAVARA NYAYAOCHIT LAGTA HAI.

Suraj Verma said...

आओ कुछ लिख कर देखा जाये ,इसको पड़कर वास्तव में लिखने का दिल करता है। और मेरी रुचि लिखने में बढ़ गई है।

asad khan said...

Nice short poem sir. Insaan na jaane kya kya sochta hai lekin jab wo likhta hai toh kuch aisa likhta hai jiska kuch matlab bane. Aur yahi matlab soch ko aur acha banata hai, kuch acha likhne ki iccha jagata hai.

पसंद आया हो तो