Tuesday, September 12, 2017

रात की खूबसूरती

वैसे रात खूबसूरत होती है या दिन बता पाना  मुश्किल है पर अगर हमारे जीवन में रात न होती तो क्या होता ? रात महज रात नहीं बल्कि एक एहसास है. जीवन का एक  अहम हिस्सा जब हम दिन भर की थकान के बाद रात की गोद में आते हैं तो जो दुलार और अपनापन मिलता है वह दिन नहीं दे पाता. और इसी दुलार का एक हिस्सा उन लोरियों और कहानियां से जुड़ा होता हैं जो सिर्फ रात के लिए बचा कर रखी जाती हैं दिन कितना भी खूबसूरत क्यों न हो पर इन लोरियों और कहानियों का सुख उसके हिस्से कभी नहीं आता. वैसे कहानी से याद आया,कहानियां रात में ही सुनाई जाती हैं ,जरा अपना बचपना याद कीजिये जब रात का इंतजार सिर्फ इसलिए होता था कि रात में बाबा –दादी या मम्मी –पापा कहानियां सुनायेंगें|रात मतलब सपने वो भी कैसे –कैसे कभी वह लोग जो हमारे जीवन से हमेशा के लिए जा चुके हैं हम अपने जीवन में उनको कभी देख नहीं पाएंगे,वो इच्छाएं जो शायद इस छोटे से जीवन में हम कभी न पूरा कर पायें सब से मिलने का सब इच्छाओं को पूरा करने का जरिया सपने बन जाते हैं सपने तो जरिया भर होते हैं पर इन सबकी असली हकदार रात ही होती है.
रात बिताना और रात को जीना दोनों अलग विषय हैं.आपने जिंदगी में न जानें कितनी रातें बिताईं होंगीं पर क्या कभी रात को जी कर देखा.रात के गहराते न जानें कितनी यादें जी उठतीं हैं .भीगी रातों की यादें मन का कोई कोना गीला कर जाती हैं तो सर्द रातों में भी दिल कैसी कैसी यादों की गुनगुनी गर्माहट से गरमा जाता है.इन बातों का पता उन्हीं को चलता है जो रात को जी कर देख रहे होते हैं. रात हमें मौका देती है कुछ पल ठहरने का ,सुस्ताने का हमें अपने आप से बात करने का अपने आप के अन्दर झाँकने का, दिन की आपा धापी में हमने क्या सही किया क्या ग़लत किया.
जिस तरह सारे दिन एक जैसे नहीं होते हैं और उसी तरह से सारी रातें भी एक जैसी नहीं होती हैं किसी रात आप अपने किसी अज़ीज़ दोस्त की पार्टी में नाच गा रहे होतें तो किसी रात आप बिस्तर पर तनाव के कारण जगते हुए काट देते हैं और किसी रात आप ऐसा मस्त सपना देखते हैं कि आप सुबह होने ही नहीं देना चाहते हैं यही कहानी हर रात कहती है.हम उम्मीदों  भरे दिन का इन्तिज़ार हंसते गाते तभी कर पाएंगे जब रात को महसूस करना सीख लेंगे . सपने उम्मीदों,कहानियों और  यादों भरी रात.आने वाला दिन कैसा होगा इसकी नींव रात की उस काली स्याही से लिखी गई है जिसे दिन का उजाला भी खत्म नहीं कर पाता.
प्रभात खबर में 12/09/2017 को प्रकाशित 

2 comments:

HARSHVARDHAN said...

आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन फिरोज गाँधी और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

सुशील कुमार जोशी said...

सुन्दर।

पसंद आया हो तो