Tuesday, March 2, 2010

पूर्वांचल विश्वविद्यालय पर रेडियो फीचर

ये उन दिनों की बाद है जब मैं पूर्वांचल विश्वविद्यालय से अपने शैक्षिक जीवन की शुरुवात कर रहा था चुनौती कड़ी थी सुविधा के नाम पर सिर्फ अधबने क्लास रूम हमें मिले थे जिनमे हमें देश के भावी पत्रकारों को तैयार करना था लाइट आती नहीं थी कंप्यूटर मिलते नहीं थे और इन्टरनेट के बारे में सोचना गुनाह था बात है साल २००१ की , हालाँकि मैंने वहां ज्वाइन नवम्बर १९९९ में किया था मैं हवा में हाथ पैर मार रहा था की बच्चों को कैसे सिखाया जाए उसी कशमकश और अपने आपको साबित करने की दिशा में मैंने एक रेडियो फीचर बनाया था जो आकाशवाणी लखनऊ से बजा आप भी सुनिए और जानिए वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के बारे में हमेशा की तरह आपके सुझाव और प्रतिक्रिया का इन्तिज़ार रहेगा


आप चाहें तो इसे डाउनलोड भी कर सकते हैं
http://www.4shared.com/file/232651837/fe5c028c/PU_Feature.html

18 comments:

डॉ. मनोज मिश्र said...

बेहतरीन प्रस्तुति,बहुत सुंदर.

Manish said...

:) vbspu se puraane parichit hain...

Digvijay Singh Rathor Azamgarh said...

आप कि इस पोस्ट से कई पुरानी बातें ताज़ा हो गयी है . पूर्वांचल को याद करने के लिए धन्यवाद्. इसे डिपार्टमेंट के बच्चो को भी सुनाना है .

deepakkibaten said...

sir achcha hai. bahut din baad VBSPU ke bare me suna achcha laga.

Digvijay Singh Rathor Azamgarh said...

सर प्रणाम
आज आप के ब्लॉग पर पूर्वांचल विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग के छात्रों को रेडियो फीचर सुनाया. सब आप को बहुत याद कर रहे है .

Digvijay Singh Rathor Azamgarh said...

सर प्रणाम
आज आप के ब्लॉग पर पूर्वांचल विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग के छात्रों को रेडियो फीचर सुनाया. सब आप को बहुत याद कर रहे है .

shabina blog said...

sir aapne purvanchal university ki jo rooprekha es Radio feature me sameti hai vo such me qabile-tareef hai.mai iske liye tahedil se aapko mubarak bad deti hun ...sir kisi blog par ye mera pahla comment hai..galti ke liye muaf kijiyega..
Shabinafaridi

VBSPU FOURTH SEM

nya daur said...

sir apka ye 24 mint aur 42sec. ye feature hamare pur.uni.jaunpur ki visesta batata hai ye feature kafi acha hai.
khushboo gupta

pradeep said...

zindagi ke safar mein guzar jate hain jo makaam wo phir nahi aate.................wo phir nahi aaate

PRASHI said...

nice script nd awesome presentation sir....
nd d folk song included in dis presentation is sooo gud.....

abhijeet said...

SUperb.I can not say anything about this radio feature.Such a superb.

नेहा said...

सर बहुत अच्छा लगा सुन कर बहुत अच्छी प्रस्तुति है.

ashutosh said...

sir purvanchal ke yado ke sath sath
purvanchal ke student ko bhi yad kijeye, jo aap se umid lagye baithe hai,

archana chaturvedi said...

Sunte sunte yesa lag raha tha mai dekh rai hu ati ati utam

sana said...

very nice sir maine bas purvanchal university ka nam hi suna ta ajtak,par is post k dwara bhot kuch janne ko mila

Tanupreet Kaur said...

nice lines sir . Maine bas Purvvanchal University ka naam hi suna tha , but aapne aaj Radio se related dikha bhi diya .

Shainda Warsi said...

SIR IS LEKH ME SBSE ACHI BAT MUJHE YE LAGI KIITNE SIMIT SANSADHAN HONE K BAWJOOD
AAP WAHA K STUDENTS KO ACHI EDUCATION DE PAYE INTERNET NA HOTE HUE BHI VICHARO KO
LOGO TK PHUCHAYA JAYE UNHE APNE YE RADIO SEJUD K BTAYA.REALLY GOOD WORK SIR

Suraj Verma said...

Nyc feature sir...maine suna kaafi kuch jaankari mili ....aur mujhe ek pal ko lga ki mai live dekh raha hun....aapka undino mey yah prayaas kabile tarrif hai sir...

पसंद आया हो तो