Thursday, April 18, 2013

फ़िल्मी हीरो


एक दिन मेरा भी सर चकराया
फ़िल्मी हीरो बनने का
भूत सवार हो आया
मुंगेरी लाल की तरह देखता था सपने
पता नहीं वे  कब लगेंगे मुझे अपने
             आखिर वो दिन भी आया
             जब मैं बम्बई पहुँच पाया
            मैंने फिल्मीस्तान स्टूडियो  का
            दरवाजा खटखटाया
            लेकिन वहां  मुझे दरबान ने भागया
इस तरह खटखटाए मैंने
सभी स्टूडियो के दरवाजे
सब जगह मुझे नजर आये बंद दरवाजे
थक हार कर पहुंचा होटल में
खाने को कुछ भी न था पॉकेट में
            लेकिन उनको भी मेरी गरीबी पर
            तरस न आया
           वहां से भी मुझे मारकर भगाया
           मेरा सपना टूटता नजर आया
           मेरा फ़िल्मी हीरो का भूत
          घर वापस आया

सुमन सौरभ में अप्रैल 1993 में प्रकाशित 

1 comment:

Fatima Lubna said...

Sir your poem depicts the true struggle of newcomers. How many difficulties they have to face is difficult to imagine.

पसंद आया हो तो