Monday, September 15, 2014

व्हाट्स एप व् एफ बी पर चैटिंग ही नहीं नोट्स भी बांटे

कैम्पस तो कूल हो गए हैं,पर आप कब “कूल” होंगे नहीं समझे अरे भाई कैम्पस लिखने पढ़ने और कुछ नया सीखने की जगह है जब कैम्पस का रूप रंग बदल गया ,पढाने के तौर तरीके बदल गए तो पढ़ने के वही तरीके क्यूँ |अब वो जमाना तो रहा नहीं कि पढ़ाई का एक वक्त हुआ करता था ऐसा हो भी क्यूँ न तब इंटरनेट नहीं था अब तो हर पल दुनिया से जुड़े हुए हैं|हर हाथ में गूगल है तो फिर पढ़ाई करने के लिए माहौल क्या बनाना जब मौका लगे अपने विषय से सम्बन्धित टॉपिक पर ज्यादा से ज्यादा जानकारी लेने की कोशिश कीजिये|इससे दो फायदे होंगे विषय के प्रति आपकी समझ बढ़ेगी जिससे नोट्स बनाने में आसानी होगी और क्लास में शिक्षकों से उन जिज्ञासाओं का आसानी से समाधान हो जाएगा जिसमें आपको संशय हो|देखिये तकनीक कोई बुरी नहीं होती उसे अच्छा या बुरा होना उसके इस्तेमाल पर है|वो चाहे तमाम तरह की सोशल नेटवर्किंग साईट्स हों या व्हाट्स एप जैसे चैटिंग एप अब गर आप समय काटने के लिए इनका इस्तेमाल कर रहे हैं तो अभिभावक,शिक्षक की नारजगी लाजिमी है|
                          अभी वक्त पढ़ाई और करियर बनाने का है एक बार आपका करियर बन गया तो आप कुछ भी करेंगे उस पर कोई रोक टोंक नहीं होगी|अब आप ज्यादा किताबें तो आप को पढ़ने का मौका नहीं मिल पाता पर मेरी माता जी बचपने में  मुझे अक्सर प्रेरित करने के लिए रामायण की एक चौपाई का सहारा लिया करती थी”समरथ को नहीं दोष गुंसाईं” तो अगर आप करियर में आगे निकल जायेंगे तो कुछ भी करेंगे उसकी मिसाल दी जायेगी| मैं आपको सोशल नेटवर्किंग साईट्स के बारे में बता रहा था|फेसबुक पर आपके विषय से सम्बन्धित बहुत से पेज और ग्रुप हैं उनसे जुड जाइए आपको बहुत फायदा होगा क्यूंकि दुनिया भर में आपके विषय से सम्बन्धित ताजा तरीन जानकारियां वहां शेयर की जा रही हैं|आप विषय पर अपनी पकड़ को वहां दिखा सकते हैं या आप कितना जानते हैं इसका पता भी आपको लग जाएगा|फेसबुक को यारी दोस्ती निभाने की जगह बनाने की बजाय सीखने सिखाने की जगह बनाइये फिर देखिएगा आपको एफ बी पर लगे रहने से कोई नहीं रोकेगा क्यूंकि आप सही काम कर रहे है| व्हाट्स एप पर आपने खूब ग्रुप ज्वाईन कर रखे होंगे पर अब एक ऐसा ग्रुप बनाइये जिसमें नोट्स का आदान प्रदान हो सके क्लास में शिक्षकों से अनुमति लेकर उनके लेक्चर रिकोर्ड कीजिये ये ऑडियो या वीडियो किसी भी रूप में हो सकते है|वैज्ञानिक रूप से यह स्थापित तथ्य है कि हमें रटकर याद करने की बजाय सुनकर जल्दी याद होता है|सोचिये आपका यह छोटा सा प्रयास आने वाले विद्यार्थियों की कितनी मदद करेगा|वीडियो लेक्चर को आप यूट्यूब पर डाल कर यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि अन उस वीडियो लेक्चर की पहुँच में दुनिया का हर विद्यार्थी शामिल है|मुझे उम्मीद है अब जिस मोबाईल और इंटरनेट का अधिक प्रयोग आपको हमेशा सवालों के घेरे में रखता था वो आपके करियर को बेहतर करने में मदद करेगा|अब सोचना छोड़ के लग जाइए अपने करियर को कूल बनाने में |
अमर उजाला माई सिटी में 15/09/14 को प्रकाशित 

34 comments:

Shambunath said...

नई तकनीक का इतना अच्छा इस्तेमाल हो सकता, जिसकी कोई सीमा नहीं है, आपने बहुत ही अच्छा सुझाव दिया है, आज के कूल विद्यार्थियों को इसका बखूबी इस्तेमाल जरूर करना चाहिए...फिर देखिए कैसी तब्दीली आती है जीवन में ...मुकुल बहुत ही बढ़िया

Shambunath said...

नई तकनीक का इतना अच्छा इस्तेमाल हो सकता, जिसकी कोई सीमा नहीं है, आपने बहुत ही अच्छा सुझाव दिया है, आज के कूल विद्यार्थियों को इसका बखूबी इस्तेमाल जरूर करना चाहिए...फिर देखिए कैसी तब्दीली आती है जीवन में ...मुकुल बहुत ही बढ़िया

Anonymous said...

नई तकनीक का इतना अच्छा इस्तेमाल हो सकता, जिसकी कोई सीमा नहीं है, आपने बहुत ही अच्छा सुझाव दिया है, आज के कूल विद्यार्थियों को इसका बखूबी इस्तेमाल जरूर करना चाहिए...फिर देखिए कैसी तब्दीली आती है जीवन में ...मुकुल बहुत ही बढ़िया

Nawaab Saurabh said...

Well said sir, we have to change ourself (students) and we have to use social networking sites to exchange notes among us....

Anonymous said...

Hello to every , because I am truly keen of reading this webpage's post to
be updated daily. It carries nice material.



Visit my web site: Pure Forskolin

aditi verma said...

Yes sir you are right and ha mai already aisa karti hu and ise age continu rkhungi n sb ko aisa karne ko bolungi.aditiverma

aditi verma said...

Yes sir you are right and ha mai already aisa karti hu and ise age continu rkhungi n sb ko aisa karne ko bolungi.aditiverma

charu said...

Right sir gyan batne se batda h and social networking site is the best option....

Anonymous said...

Right sir gyan batne se badta h and social networking site is the best option...
Charu Priyam

kashika mehrotra said...

techonology nai itne naye social networking sites diye hai ajj k students ko par koi bhi iska sahi use nahi karta hai sab fizul ki chatting karke tym barbaad karte hai..hume iska sahi use karna chaye aur padhai k kaam lana chaye...taki hum kuch naya seekh bhi sakein..

Anonymous said...

this is very true sir! its useful and very innovative idea for youngster like us as it really works. Idea of recording lectures is very good and we all shall try to do it and share this on social sites
juhi srivastav

juhi srivastav said...

This is very true sir! Its very useful and innovative idea for youngster like us as it really works. Idea of recording lectures is very good and we all shall try to do it and share it on social networking sites.

juhi srivastav said...

This is very true sir! Its very useful and innovative idea for youngster like us as it really works. Idea of recording lectures is very good and we all shall try to do it and share it on social networking sites
Juhi srivastav

jessica yadav said...

truly said sir. we agree with you because althogh technology has been playing an important role in a students life yet they have several of them who do not use it wisely. i feel proud to say that we have been sharing notes on whatsapp and shall continue with it.

Sonali Kanojia said...

An inspiring thought sir, v r so near and attached with the developing world still v lack our focus. Taking ur suggestion seriously, by joining more n more useful watsapp group and fb pages, v can use our time and technology and do alot in our career. Sonali Kanojia

Sonali Kanojia said...

An inspiring thought sir, v r so near and attached with the developing world still v lack our focus. Taking ur suggestion seriously, by joining more n more useful watsapp group and fb pages, v can use our time and technology and do alot in our career. Sonali Kanojia

nidhi agnihotri said...

i wouldn't have believed it sir but i am an example myself..i gave my last year's exams just by studying through whatsapp notes given by my friends and got 80% marks..i know it sound like some teleshopping advertisement :P but this is true..

Ashwin Jaiswal said...

Due to advancement in technology now every student is having a cell phone using what'sapp and Facebook very frequently. So having chatting with the friends he can also be in touch with the school and college activities. Students devote more time in Facebook and what'sapp so indirectly they will have glimpse on their note too.

Ashwin Jaiswal said...

Due to advancement in technology now every student is having a cell phone using what'sapp and Facebook very frequently. So having chatting with the friends he can also be in touch with the school and college activities. Students devote more time in Facebook and what'sapp so indirectly they will have glimpse on their note too.

Rabinshu Sharma said...

आज की स्मार्ट जेनेरेशन मे हर चीज़ स्मार्ट हो रही है, मोबाइल से लेकर लोगों के काम करने के तरीके तक लेकिन इस व्हाट्स एप और एफ बी का हम नोट्स शेरिंग मे इतना अच्छा इस्तेमाल कर सकते यह जानकार मुझे काफी अच्छा लगा।

Anonymous said...

Very well written, Sir. Today the world is in the palm of our hand. Instead of just updating "selfies" and staying connected with our friends we should rather stay connected to the whole world around us and stay informed. Ever since social media came to power the world's our oyster. It has quality up disseminate news faster than a news channel. Hence, rather than using such technology only for our entertainment we should use it to be well informed too.

P.S. I'm the friend who gave Nidhi notes two days before the exam via whatsapp. :P

Deepshikha Seymour

beauty said...

well said sir... i have an experience of it also... when i was in my graduation i used many time whatsapp to exchange the notes... nd now i'll promote ol the thing which u told in this article to utilize the social networking site to enhance our knowledge... thank u soo much sir... Anjali singh mjmc 1st sem

pawan singh said...

internet ka kamal abhi jo hamare yuvao pe sir chadh ke bol rha hai kuch yuva sahi aur kuch yuva galat istemal kar rahe hai.abhi apne dekha ka election 2014 me jis prkar sosail media ke jariye har partiya hamre yuvao ko apni taraf kichne ka pryas kar rahi thi kyo ki hamare desh me yuvao ki jansankhya sabse jyada hai aur hamar yuva internet sabse jayada prayog kar rahe rahe hai....prayog karne ka apna apna tarika hai kuch log internet se gayan ki prapti to kuch log entertainment ke liye karte hai.....PAWAN KUMAR SINGH

pawan singh said...

dekha ka election 2014 me jis prkar sosail media ke jariye har partiya hamre yuvao ko apni taraf kichne ka pryas kar rahi thi kyo ki hamare desh me yuvao ki jansankhya sabse jyada hai aur hamar yuva internet sabse jayada prayog kar rahe rahe hai....prayog karne ka apna apna tarika hai kuch log internet se gayan ki prapti to kuch log entertainment ke liye karte hai.....PAWAN KUMAR SINGH

Ashutosh Jaiswal said...

nice handy suggestions sir !
especially class ke audio aur video record karne ka concept,ye kaafi useful hai hamare liye "CRUNCH TIME" par jab exam time mei anxiety peak karti hai aise mei mind almost block ho jaata hai aur concentration kam hota hai tab audio aur videos classes ek achha medium hoga.
Ashutosh Jaiswal
MJMC 1st semester

sonali singh said...

very well said sir if we student want than this thing surely can happen..

charu priyam said...

नई तकनीक का इतना अच्छा इस्तेमाल हो सकता, जिसकी कोई सीमा नहीं है, आपने बहुत ही अच्छा सुझाव दिया है, आज के कूल विद्यार्थियों को इसका बखूबी इस्तेमाल जरूर करना चाहिए...फिर देखिए कैसी तब्दीली आती है जीवन में ...मुकुल बहुत ही बढ़िया

charu priyam said...

नई तकनीक का इतना अच्छा इस्तेमाल हो सकता, जिसकी कोई सीमा नहीं है, आपने बहुत ही अच्छा सुझाव दिया है, आज के कूल विद्यार्थियों को इसका बखूबी इस्तेमाल जरूर करना चाहिए...फिर देखिए कैसी तब्दीली आती है जीवन में ...मुकुल बहुत ही बढ़िया

kusum shastri said...

Amazing.. I totally agree with your suggestions sir..its very cool idea to make our studies more exciting and interesting. In fact on fb there are lots of groups and pages which are really a good source of knowledge.

Naincy Kashyap said...

GOOd idea..

neha bhandari said...

Very true sir I AGREE WITH U !bhut badiya suggestion hai apka sir aaj technology ka agr hum sahi istemal kre toh ye hume hmare future ko sahi disha main le jane mai kafi kariger sabit ho skti hai...

NITYANAND GUPTA said...

A good suggestion is given in the above article that students and everyone can use new technology(Facebook ,Whats App,Linked-in,Twitter,Blogs,instagram Etc.) for different purposes in different fields,you can use them as a platform to express yourselves& your views ,we can also generate money by it.

Garima Bhatt said...

बहुत ही अच्छा सुझाव दिया है आपने इसे पढ़ के मैं आपका ध्यान खुद के डिपार्टमेंट मास कम्युनिकेशन की तरफ केंद्रित करना चाहूंगी जिस की मैं विद्यार्थी हूँ। जहाँ पर नोट्स असाइनमेंट्स बुक्स सब कुछ इंटरनेट के द्वारा ही आदान प्रदान किया जाता है. जिसकी वजह से मुझे इस डिपार्टमेंट का हिस्सा होते हुए गर्व महसूस होता है।

Suraj Verma said...

सही कहा सर। मै और मेरा दोस्त सुधांशु कोई व् बात नोट्स को लेकर या पढ़ाई को लेकर होती थी बी ए में तो हम लोग ऍफ़ बी और व्हाट्सएप्प पर शेयर करते और डिसकस करते। लेकिन नोट्स के लिए टीचर्स के पास जाना पड़ता और टीचर्स कहते की आज वो ले जयेगा उसी से तुम लोग फोटोकॉपी करवा लेना।
लेकिन मास कम्युनिकेशन का स्टूडेंट होने के बाद मुझे नोट्स मेल के द्वारा मिल जाते है । जो की काफी सराहनीय है। थैंक यू सर । आज हम दूर बैठे अपने दोस्तों से व्हाट्सएप्प,ऍफ़ बी और मेल के द्वारा आसानी से पढ़ाई और नोट्स sharing kr sakte hai ....तकनीक का सही इस्तेमाल ।

पसंद आया हो तो