Sunday, February 13, 2011

"जाने कितने दिनों से मैंने चाँद नहीं देखा"

"न जाने कितने दिनों से मैंने चाँद नहीं देखा
यूँ तो सब कुछ है जीवन में
पर वो हँसता मुस्कुराता आसमान नहीं देखा
युग बीते यूँ ही तारों को देखे हुए
जीवन के खाली पन में अपने आपको परखे हुए
जाने कितने दिनों से मैंने चाँद नहीं देखा



(सौमित्र का ब्लॉग पढते हुए अचानक ये पंक्तियाँ मन में आ गयी तो सोचा आपके साथ बाँट लिया जाए इस अधूरी कविता की पहली पंक्ति सौमित्र की कविता से ली गयी है सौमित्र अपने आपको व्यक्त करने के लिए एक पंक्ति देने के लिए आभार  )

20 comments:

डॉ. मनोज मिश्र said...

वाह,सुंदर पंक्तियाँ.

Marziya Jafar said...

very nice sir aap 10th me is level ki soch rakhte the amazing

meri udaan said...

panktiyon ka arth kafi goodh hai

आग़ाज़.....नयी कलम से... said...

sir ji aapke blog ka naya roop bhut acha hai....
aur kavita bhi...

आग़ाज़.....नयी कलम से... said...

sir apke blog ka naya roop bhut acha hai....aur kavita bhi.......

PRATIGYA SHUKLA said...

" सर कविता तो है ही अच्छी पर आपके ब्लॉग का रंग रूप और भी बेहतरीन है......"

bolo bindasssssss......... said...

acchi hai. maine chaand ko maasum dekha

Bhawna Tewari said...

सर आपकी कविता पढकर चाँद देकने कि इच्छा प्रबल हो उठी है जो कहीं छुपा बैठा है ...

Priyanka said...

sir ap se hi sikhne ki koshish hum bhi kar rahe hai

Priyanka said...

sir ap se hi sikhne ki koshish hum bhi kar rahe hai

परावाणी : Aravind Pandey: said...

बहुत सुन्दर भाई ..

virendra kumar veer said...

kitani sundar line hain sir,chand dekhne ki kya jarurat hai kuc haste muskurate cehre dekh lijiye jo aapke kareeb ho chand unme hi najar ayega.

AAGAZ.. said...

तय तो करना था सफ़र हमको सवेरों कि तरफ,
ले गए लेकिन उजाले ही अंधेरों की तरफ,
ये जो दुनिया साथ थी मेरे सुबह से शाम तक,
हो गयी वो शाम ढलते ही लुटेरों की तरफ..

CHANDNI GULATI said...

sirji zaroor eid ka waqt kareeb hoga,shayad isiliye nahi dekha.

ARUSHIVERMA said...

nice poem..

sana said...

very beautiful poem sir.........

samra said...

sir aapki poem padhke mein soch mein pad gayi ki yaar sach much kitne din ho gaye meine chand nahi dekha lolz..

dil ki kalam se said...

ab ho chuki hai raat chalo mere ghar chalo karni hai dil ki baat chalo mere ghar chalo ab chand bhi hai poora poori hai rat honi hai barsat chalo mere ghar chalo,ab ho chuki hai raat.....
ab hone ko hai prabhat aur niklne ko hai diwakar chalo mere ghar chalo.

pragati said...

sir nice poem.

nidhi agnihotri said...

हँ जानें कितने दिनों से मैने चाँद नहीं देखा, लेकिन जब भी शहर की इस चकाचौंध से दूर अपने गाओं जाने का मौका मिलता है मैं चाँद और तारे देखती हूँ और हैरान रह जाती हूँ कि यह आसमान इतना खूबसूरत लग सकता है।

पसंद आया हो तो